लॉजिस्टिक्स कंट्रोलर का कार्यभार

वाइस एडमिरल सुनील आनंद, एवीएसएम, एनएम, सीओएल

Director General Medical Services (Navy)

वाइस एडमिरल सुनील आनंद, एवीएसएम, एनएम भारतीय नौसेना अकादमी के भूतपूर्व छात्र हैं जिन्हें 01 जुलाई 1983 को नौसेना में कमीशन किया गया था।

अपने 36 वर्ष से अधिक लंबे कार्यकाल में फ्लैग ऑफिसर ने विभिन्न और चुनौती पूर्ण पदों का कार्यभार सँभाला है। उनकी विशिष्ट नियुक्तियों के अंतर्गत वे भा नौ पो विद्युत के मिसाइल गनरी ऑफिसर रह चुके हैं। उसके बाद, उन्हें भारतीय नौसेना के दो अग्रपंक्ति पोतों को कमीशन करने का अवसर प्राप्त हुआ – लॉजिस्टिक्स ऑफिसर के तौर पर भारत में कमीशन भा नौ पो सतलुज और यूनाइटेड किंग्डम में कमीशन किया गया भा नौ पो कृष्णा, उन्हें देश में निर्मित अग्रपंक्ति विध्वंसक, भा नौ पो दिल्ली के लॉजिस्टिक्स ऑफिसर होने का भी गौरव प्राप्त है

फ्लैग अधिकारी को दो कमान मुख्यालयों, अर्थात मुंबई स्थित पश्चिमी नौसेना कमान और पोर्ट ब्लेयर स्थित त्रि सेवा अंडमान निकोबार कमान के कमान लॉजिस्टिक्स ऑफिसर (सीएलओजीओ) के तौर पर सेवा करने का गौरव प्राप्त है। वे मटेरियल ऑर्गनाइज़ेशन (मुंबई) के मटेरियल सुपरिंटेंडेंट भी रह चुके हैं। मुख्य स्टाफ अधिकारी (कार्मिक और प्रशासन) के तौर पर कार्य करते हुए उन्हें पश्चिमी और दक्षिणी कमान के रसद परिचालनों का नेतृत्व करने का अनूठा गौरव प्राप्त है।

05 सितंबर 2013 को उन्हें रियर एडमिरल की फ्लैग रैंक पर पदोन्नत किया गया। फ्लैग रैंक पर पदोन्नति के बाद, उन्होंने परियोजना निदेशक (कार्मिक और प्रशासन), एटीवी परियोजना का कार्यभार सँभाला। उन्होंने पश्चिमी नौसेना कमान के मुख्य स्टाफ अधिकारी (कार्मिक और प्रशासन) का कार्यभार भी सँभाला। उसके बाद नवंबर 2016 को उन्हें असिस्टेंट लॉजिस्टिक्स कंट्रोलर के तौर पर नियुक्त किया गया। 01 मई 2017 को वाइस एडमिरल की रैंक पर पदोन्नत होने के बाद, भारतीय नौसेना के लॉजिस्टिक्स का संचालन करते हुए लॉजिस्टिक्स कंट्रोलर का कार्यभार सँभाला

फ्लैग ऑफिसर ने डिफेंस सर्विसेज़ स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन से स्नातक और डिफेंस स्टडीज़ में एमएससी की उपाधि प्राप्त की है। उन्होंने वर्ष 2006 में नेवल वॉर कॉलेज से हायर कमांड कोर्स भी पूरा किया है।

उन्हें अपनी व्यावसायिक उत्कृष्टता और असाधारण सेवा के लिए नौसेनाध्यक्ष और कमांडर-इन-चीफ, अंडमान निकोबार कमान द्वारा प्रशस्ति प्राप्त हुई है। कर्तव्यपरायणता के लिए 2019 में उन्हें अतिविशिष्ट सेवा पदक और 2010 में नौसेना पदक से भी सम्मानित किया गया था।

उनका विवाह श्रीमति पूनम आनंद से हुआ है और उनकी दो बेटियाँ हैं, नेहा और निकिता।

Back to Top