भारत – बांग्लादेश नौसेनाओं ने उत्तरी बंगाल की खाड़ी में समन्वित गश्ती की

भारत – बांग्लादेश नौसेनाओं ने उत्तरी बंगाल की खाड़ी में समन्वित गश्ती की

भारतीय नौसेना (आईएन) – बांग्लादेश नौसेना (बीएन) की समन्वित गश्ती (कोरपेट) के दूसरे संस्करण की शुरुआत 10 अक्टूबर 2019 को उत्तरी बंगाल की खाड़ी में हुई। बीएनएस अली हैदर, टाइप 053 फ्रिगेट और बीएनएस शादिनोटा, टाइप 056 स्टील्थ गाइडेड मिसाइल कोरवेट के साथ-साथ भा नौ पो रणविजय, गाइडेड मिसाइल विध्वंसक और भा नौ पो कुठार, स्वदेशी निर्मित मिसाइल कोर्वेट भी कोरपेट में भाग ले रहे हैं। 12 से 16 अक्टूबर 2019 तक विशाखापत्तनम में दो दिवसीय कोरपेट का आयोजन भारतीय नौसेना – बांग्लादेश नौसेना द्विपक्षीय अभ्यास के पहले संस्करण के बाद होगा।

2018 में शुरू हुए भारतीय नौसेना – बांग्लादेश नौसेना कोरपेट का लक्ष्य नौ कौशल विकास में शामिल नौसेनाओं के साथ द्विपक्षीय अभ्यास को अपग्रेड करना, और समुद्र के अभिन्न हेलीकाप्टरों और समुद्री गश्ती वायुयान के साथ उड़ान अभ्यास करना है। इसके अतिरिक्त, पारस्परिक संचार के विकास और सर्वोत्तम प्रक्रियाओं के साझाकरण के लिए आवश्यक अभ्यासों का संचालन भी किया जाएगा जिसमें भारत - बांग्लादेश समुद्री संबंधों में नया आयाम जुड़ेगा। 4000 किमी से अधिक की मिली-जुली क्षेत्रीय सीमा और समुद्री सीमा के साथ, दोनों प्रदेशों की नौसेनाओं का लक्ष्य अभ्यास करना और उनके पारस्परिक सहयोग को बढ़ाना है, साथ ही कोरपेट के मौजूदा संस्करण के दौरान अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा के नज़दीक गश्ती करना भी है।

समुद्री चरण को बंदरगाह चरण के बाद किया जाएगा जिसमें नौसेनाओं के बीच पेशेवर बातचीत, भारतीय नौसेना के प्रशिक्षण और विशाखापत्तनम में रखरखाव की सुविधाओं का दौरा शामिल है। इस अभ्यास में भा नौ पो देगा में एमपीए परिचालनों की बेहतर समझ के लिए बीएन वायुकर्मियों का हवाई परिचितिकरण और आईएन समुद्री कमांडो और बीएन स्वाड्स के बीच दस दिवसीय प्रशिक्षण अभ्यास भी शामिल किया जाएगा।

Back to Top