एंटी-पायरेसी गश्त, अदेन की खाड़ी - भा नौ पो सुनयना ने मछली पकड़ने की अवैध नाव से हथियार व गोला-बारूद पकड़े

एंटी-पायरेसी गश्त, अदेन की खाड़ी - भा नौ पो सुनयना ने मछली पकड़ने की अवैध नाव से हथियार व गोला-बारूद पकड़े

भा नौ पो सुनयना को 06 अक्तूबर 2018 से ही अदेन की खाड़ी में एंटी पायरेसी गश्त के लिए तैनात किया गया है। 07 दिसंबर 2018 को, पोत ने सोकोट्रा द्वीप के निकट सोमालिया के तट से लगभग 25 नॉटिकल मील दूर मछली पकड़ने की एक संदिग्ध नाव का पता लगाया। जांच करने पर, पोत को पता चला कि वह नाव उस इलाके में अवैध रूप से मछली पकड़ने में संलिप्त थी और उसमें से चार एके-47 और एक हल्की मशीन गन, साथ में गोलियां भी प्राप्त हुई। भा नौ पो सुनयना ने यूएनएससीआर 2383 (2017) द्वारा अनुमत अधिकार के अंतर्गत नाव से हथियार व गोला-बारूद अपने कब्जे में लिए। उस नाव की गहन छानबीन करने के बाद उसे छोड़ दिया गया, और हथियारों और गोला-बारूद को जब्त कर लिया गया, जिससे कि चालक दल को बाद में पायरेसी संबंधी गतिविधियों को अंजाम देने से रोका जा सके। यह घटना हिंद महासागर क्षेत्र, विशेष रूप से अदेन की खाड़ी और सोमालिया के तट के निकट भारतीयों के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय नाविकों की सुरक्षित समुद्री यात्रा सुनिश्चित करने की दिशा में भारतीय नौसेना के वचन को दोहराती है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव (यूएनएससीआर) 2383 (2017) में अवैध, असूचित और अनियंत्रित (आईयूयू) रूप से मछली पकड़ने और पायरेसी करने के बीच के जटिल संबंध को माना है और इलाके में तैनात युद्धपोत हमेशा ही इस प्रकार की अवैध गतिविधियों की तलाश में रहते हैं।

  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • https://www.indiannavy.nic.in/
  • http://india.gov.in, The National Portal of India : External website that opens in a new window
  • Ministry of Defence, Government of India : External website that opens in a new window
  • My Government, Government of India : External website that opens in a new window
  • https://www.indiainvestmentgrid.com : External website that opens in a new window
  • https://gandhi.gov.in, Gandhi : External website that opens in a new window
  • STQC_logo
Back to Top