डायरेक्टर जनरल, प्रोजेक्ट सीबर्ड

वाइस एडमिरल रवनीत सिंह, एवीएसएम, एनएम

डायरेक्टर जनरल, प्रोजेक्ट सीबर्ड

वाइस एडमिरल रवनीत सिंह, एवीएसएम, एनएम 01 जुलाई 1983 को भारतीय नौसेना में शामिल हुए थे और उन्हें विमानन में विशिष्टता प्राप्त है।

फ्लैग ऑफिसर मास्टर ग्रीन इंस्ट्रुमेंट रेटिंग के साथ एक योग्य फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर हैं जिन्होंने अपने शानदार करियर के दौरान एचटी 2, किरण एचजेटी 16 (एमके I, एमके IA व एमके II), टीएस 11 इस्क्रा, हंटर, हैरियर जीआर 3, सी हैरियर, जेट प्रोवोस्ट, चेतक, गजेल, हॉक और मिग 29 केयूबी विमान उड़ाए हैं। इन्होंने विभिन्न अग्रणी पोत और नौसेना वायु स्क्वाड्रनों की भी कमान संभाली है जिसमें भा नौ पो हिमगिरी, भा नौ पो रणविजय, भा नौ पो रणवीर, भा नौ व स्क 551B, भा नौ व स्क 300 और भा नौ पो हंसा शामिल हैं। इसके अलावा, इन्हें भारतीय रक्षा सलाहकार (केन्या, तंज़ानिया और सेशेल्स) के रूप में भी नियुक्त किया गया था।

रियर एडमिरल के पद पर इनकी फ्लैग नियुक्ति में एकीकृत रक्षा मुख्यालय (नौसेना) में असिस्टेंट कंट्रोलर कैरियर प्रोजेक्ट (एसीसीपी) और असिस्टेंट कंट्रोलर वॉरशिप प्रोडक्शन व एक्विजिशन (एसीडब्लूपीएंडए), गोवा में फ्लैग ऑफिसर गोवा क्षेत्र (एफओजीए)/ फ्लैग ऑफिसर नेवल एविएशन (एफओएनए) और मुंबई में फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग वेस्टर्न फ्लीट (एफओसीडब्लूएफ) शामिल हैं। अक्तूबर 2016 में वाइस एडमिरल के पद पर पदोन्नति के बाद, फ्लैग ऑफिसर को मुंबई में चीफ ऑफ़ स्टाफ, पश्चिमी नौसेना कमान के रूप में नियुक्त किया गया था।

एडमिरल ने विटरिंग, यूके में रॉयल एयर फोर्स में हैरियर कन्वर्ज़न कोर्स पूरा किया है और डिफेन्स सर्विसेस स्टाफ कॉलेज, वेलिंग्टन से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है।

वाइस एडमिरल रवनीत सिंह को वीरता के लिए वर्ष 2004 में नौसेना मेडल और विशिष्ट सेवा के लिए वर्ष 2017 में अतिविशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किया गया है।

Back to Top