भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव (एसएआर) ऑपरेशन 04 दिसंबर 17 को पांचवे दिन दक्षिण-पूर्वी अरब सागर और एल एंड एम द्वीपसमूह पर गंभीर चक्रवात तूफान 'ओसीकेएचआई' के आने के बाद भी पूरे जोर पर हैं। पश्चिमी नौसेना कमांड आईएनएस चेन्नई, कोलकाता और त्रिकंद के सीमावर्ती पोतों सहित आठ नौसेना पोतों को प्रभावित द्वीपसमूह में सहायता पहुंचाने के लिए परिनियोजित किया गया था। इसके अलावा, पूर्वी नौसेना कमांड की लंबी दूरी वाला समुद्री टोह वायु-यान P8I सहित दक्षिणी नौसेना कमांड के नियंत्रण में सभी वायु-यान पूरे दिन परिनियोजित किए गए थे।

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

आपदा राहत सामग्री भारतीय नौसेना पोतों शारदा और चेन्नई द्वारा 03 दिसंबर को मिनिकोय में और 04 दिसंबर को कवारत्ती तथा कालपेनी में पहुंचाई गई थी। खाने की सूखी हुई वस्तुएँ (चावल, दाल, नमक, निर्जलित आलू और प्याज), पानी, कंबल, रेनकोट, डिस्पोजेबल कपड़े, मच्छरदानी और दरी सहित कुल 4 टन आपदा राहत सामग्री आईएनएस द्वीपरक्षक और नौसेना डिटेचमेंट मिनिकॉय द्वारा स्थानीय अनुभाग को सौंपी गई हैं। खाने की सूखी हुई वस्तुएँ और खाने के लिए तैयार भोजन के साथ आपदा राहत सामग्री भी कवारत्ती में आईएनएस द्वीपरक्षक के भारतीय नौसेना हेलीकाप्टर द्वारा बितरा द्वीप में भेजी जा रही है। नौसेना डिटेचमेंट मिनिकॉय के नौसेना कर्मचारी सड़क को साफ़ करने में स्थानीय निवासी और प्रशासन की सहायता कर रहे हैं और स्थानीय निवासियों के लिए भोजन और राशन वितरित कर रहे हैं।

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

आईएनएस कोलकाता ने बितरा द्वीप से 70 मील दूर एफवी (फिशिंग वेज़ल) आइलैंड क्वीन से नौ लोगों को बचाया। नाव के गुम होने की रिपोर्ट 15 दिन पहले की गई थी। कर्मीदल संतोषजनक स्थिति में पाए गए थे और भोजन, पानी तथा नाविकविद्या सामग्रियों के लिए उनके अनुरोध को तुरंत पोत द्वारा पूरा किया गया था। उनके अनुरोध के आधार पर, नौका को साफ़ मौसम में 2 घंटे के लिए अनुरक्षित किया गया था। सभी मछुआरे थोप्पमपट्टी, कोची के निवासी थे।

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

कोची से नौसेना सी किंग हेलीकाप्टर कवारत्ती द्वीप पर परिनियोजित की गई थी। हेलीकाप्टर का सबसे अधिक उपयोग द्वीपों के बीच लोगों और सामग्री को स्थानांतरित करने के लिए किया गया। इसी बीच आईएनएस कालपेनी को वापस लाया गया और आईएनएस जमुना और आईएनएस निरीक्षक द्वारा केरल के ग्यारह मछुआरों को कोची पहुंचाया गया।

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

आईएनएस शर्दुल ने सभी एचएडीआर सामग्री को मिनिकोय में पहुंचाया। पोत में अतिरिक्त एसएआर परिचालनों को पूरा करने के लिए डाइविंग समूह और नौसेना हेलिकॉप्टर की सुविधा है। राहत सामग्री को सात दिनों में 2000 लोग समाप्त कर पाएंगे।

भारतीय नौसेना का खोज और बचाव ऑपरेशन - 'ओसीकेएचआई'

निर्दिष्ट क्षेत्र में खोज और बचाव प्रयासों के पूर्ण होने के बाद आईएनएस त्रिकांड एचएडीआर सामग्री के साथ बितरा द्वीप पर कार्य कर रहा है। पोत के 05 दिसंबर की सुबह तक द्वीप पर पहुंचने की उम्मीद है। राहत सामग्री से स्थिति में सुधार होने तक द्वीप निवासियों की आवश्यकताएँ पूरी हो जाएँगी।

सभी एलएएम द्वीपसमूह पूरे जोर से बचाव और राहत परिचालनों के साथ भारतीय नौसेना पोतों और वायु-यान के कार्यक्षेत्र के अंधीन हैं। भारतीय नौसेना अधिक शीघ्रता से एल एंड एम द्वीपों को सामान्य अवस्था में वापस लाने के लिए दृढ़ संकल्पित है।  भारतीय नौसेना के तीव्र और समयपूर्वक कार्यवाही से समुद्र में 148 लोगों के जीवन को बचाया गया, जिसमें 04 दिसंबर को आईएनएस काल्पनियन द्वारा पहले से भेजे गए भारतीय नौसेना पोतों जमुना, निरीक्षक और सागरध्वनि द्वारा खोजे गए 11 मछुआरे शामिल हैं, इसके अलावा दक्षिणपूर्व अरब सागर और एल एंड एम द्वीपों पर बहुत अधिक गंभीर चक्रवात तूफान द्वारा प्रभावित 5000 से अधिक नागरिकों को सामग्री सहायता पहुँचाई गई।

भारतीय नौसेना के नियंत्रण में अन्य सभी पोतों को खोज और बचाव परिचालनों के लिए जारी रखा जाएगा और सामान्य अवस्था में वापस आने तक राहत प्रदान की जाएगी। सभी एसएआर गतिविधियाँ केन्द्रीय एजेंसियों की सहायता से पूर्ण की जा रही है।

 

Pages

Back to Top