'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

दक्षिणी नौसेना कमांड ने 'ओपी सहयम' को तैनात किया, यह बहुत गंभीर चक्रवात तूफान 'ओसीकेएचआई' के आने पर दक्षिणपूर्व अरब सागर और एल एंड एम द्वीप में खोज तथा बचाव (एसएआर) को आरंभ करने वाला और मानवीय सहायता तथा आपदा राहत (एचएडीआर) सामग्री सहायता प्रदान करने वाला भारतीय नौसेना अभ्यास है। पश्चिमी नौसेना कमांड आईएनएस चेन्नई, कोलकाता के सीमावर्ती पोतों सहित नौ नौसेना पोतों और लंबी दूरी तक समुद्री परीक्षण करने वाले वायु-यान P8I, डोर्निएर, सीकिंग और चेतक सहित चार प्रकार के वायु-यान पश्चिमी एल एंड एम द्वीपों के 300 मील और केरल तट से 450 मील तक फैले एसएआर क्षेत्र पर परिनियोजित होने के लिए तैनात किए गए थे।

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

05 दिसंबर 2017 की देर रात को, P8I वायु-यान ने निगरानी करते हुए मछली पकड़ने वाले पोत सैंट डेमियन, जो कवारत्ती से 180 मील उत्तरपश्चिम की ओर जा रही थी, का पता लगाया और सहायता प्रदान करने के लिए आईएनएस चेन्नई को सूचना दी।  13 सदस्यीय कर्मी दल को 06 दिसंबर की सुबह-सुबह चेन्नई की ओर ले जाया गया और भोजन, पानी तथा चिकित्सीय सुविधा दी गई। पोत को खींचकर लाया गया और "ओपी सिनर्जी" के तहत कोस्ट गार्ड शिप शूर को सौंपा गया, क्योंकि पोत का इंजन ठीक करने योग्य नहीं था और आईएनएस चेन्नई के दल के सर्वोत्तम प्रयास के बावजूद समुद्र में इसे रिपेयर नहीं जा सकता था।

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

06 दिसंबर 2017 को, फिशिंग समुदाय के अनुरोध के आधार पर, आईएनएस कालपेनी ने कोची के छः स्थानीय मछुआरों को पोत पर चढ़ाया और आईएनएस काबरा ने कोल्लम के दो मछुआरों को चल रहे एसएआर प्रयासों में शामिल होने और इन मछुआरों द्वारा दी गई विशेष जानकारी के आधार पर खोए हुए फिशिंग पोतों की निर्देशित खोज उपलब्ध कराने के लिए पोत पर चढ़ाया। दोनों नौसेना पोत चढ़ाए गए मछुआरों द्वारा प्राप्त दिशानिर्देशों के अनुसार खोज कार्यों को पूर्ण करने के बाद वापस कोची लौटेंगे।

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

कवारत्ती में तैनात आईएनएस जमुना ने एलएंडएम प्रशासन के अनुरोध पर 12000 लीटर स्वच्छ पानी का इंतजाम किया। द्वीप के लिए आवश्यक एचएडीआर सामग्री आईएनएस चेन्नई द्वारा पहले से ही उपलब्ध कराई गई है।

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

'ओप सहयम' - राहत ऑपरेशन

ईंधन लेने के लिए कोची से वापस आई आईएनएस शारदा में मिनिकॉय प्रशासन के अनुरोध पर 2000 लीटर स्वच्छ पानी, दवाईयाँ, भोजन, इमरजेंसी लाइट, पेट्रोल, पोर्टेबल 10 केवीए पॉवर जनरेटर, टूल किट, बायलर सूट इत्यादि जैसी सामग्रियाँ अब चढ़ा दी गई हैं। सामग्रियाँ 07 दिसंबर 2017 की सुबह तक पहुँच जाएंगी।

मिनिकॉय, जो अत्यधिक उजड़ा हुआ द्वीप था, सडकों की सफाई, गिरे हुए पेड़ों की कटाई, ग्रामीणों के लिए राशन का वितरण, एचएडीआर सामग्रियों का वितरण, राहत कैंप के परिसर की सफाई और हेलिपैड के मार्ग की सफाई, इत्यादि जैसी गतिविधियों में स्वयं को सक्रियता से शामिल करते हुए वहाँ मौजूद नौसेना सैन्य-दल के साथ बड़ी तेजी से सामान्य अवस्था में वापस लौट रहा है।

भारतीय नौसेना के तीव्र और सामयिक कार्रवाई के कारण 148 लोगों को बचाने और गहरे समुद्र से तीन शरीरों को निकालने के अलावा, समुद्र में 187 लोगों को यथासंभव सहायता प्रदान की गई। सभी खोज और बचाव गतिविधियाँ केन्द्रीय एजेंसियों के सहयोग से संचालित की गई है।

Pages

Back to Top