विक्रमादित्‍य, विराट, दिल्‍ली क्‍लास, राजपूत क्‍लास, कोलकाता क्‍लास

विमान वाहक: भा नौ पो विक्रमादित्य

विमान वाहक: भा नौ पो विक्रमादित्य
नाम पेनन्ट नं. समिति की तारीख
विक्रमादित्य आर 33 16 नवम्बर 2013

विध्वंसक

दिल्ली क्‍लास

दिल्ली श्रेणी के विध्वंसक मिसाइल को विध्वंसक निर्देशित-मिसाइल के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। दिल्ली श्रेणी की वाहिका एक विशाल युद्धपोत हैं जिसे पूर्ण रुप से भारत में डिजाइन और निर्मित किया गया है। दिल्ली श्रेणी की वाहिका का कोलकाता श्रेणी के विध्वंसक और विक्रांत श्रेणी के विमान वाहक द्वारा अधिक्रमण जल्द ही हो जाएगा। दिल्ली श्रेणी की वाहिका को मुंबई के मझगांव डॉक लिमिटेड में निर्मित किया गया है।

दिल्ली श्रेणी
नाम पेनन्ट नं. समिति की तारीख
मैसूरी डी 60 04 जून 1993
दिल्ली डी 61 15 नवम्बर 1997
मुम्बई डी 62 22 जनवरी 2001

राजपूत क्‍लास

राजपूत श्रेणी निर्देशित-मिसाइल विध्वंसक को काशिन- II श्रेणी के रूप में भी जाना जाता है। इस पोत को पूर्व सोवियत संघ में बनाया गया था। यह ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल प्रणाली द्वारा तैनात भारतीय नौसेना में शामिल पहली पोत हैं। राजपूत श्रेणी के पोत की भूमिका में विमान भेदी तथा वाहक टास्क फोर्स पनडुब्बियों से रक्षा, कम ऊँचाई पर उड़ाने वाले विमान और क्रूज मिसाइलों से पनडुब्बी रोधी युद्ध के रूप में संरक्षण शामिल है।

राजपूत श्रेणी
नाम पेनन्ट नं. समिति की तारीख
राजपूत डी 51 30 सितम्बर 1980
राणा डी 52 28 जनवरी 1982
रणजीत डी 53 24 नवम्बर 1983
रणवीर डी 54 28 अक्टूबर 1986
रणविजय डी 55 15 जनवरी 1988

कोलकाता श्रेणी

कोलकाता श्रेणी के विध्वंसक प्रसिद्ध प्रोजेक्ट 15 'दिल्ली' श्रेणी के विध्वंसक हैं, जिनकी सेवाओं की शुरुआत 1990 के दशक के आखिरी हुई थी। इस विध्वंसक के निर्माण की परिकल्पना भारतीय नौसेना के डिजाइन निदेशालय द्वारा की गई थी। जहाजों भारत कोलकाता, कोच्चि और चेन्नई के प्रमुख बंदरगाह शहरों के बाद नाम दिया गया है। जहाज का नामकरण भारत के प्रमुख बंदरगाह के शहरों जैसे कोलकाता, कोच्चि और चेन्नई के नाम किया गया है।

कोलकाता श्रेणी
नाम पेनन्ट नं. समिति की तारीख
कोलकाता डी 63 16 अगस्त 2014
कोच्चि डी 64 30 सितम्बर 2015

नोट:-: सभी जहाजों के नाम के आगे 'आईएनएस' लगा होता हैं जो भारतीय नौसेना द्वारा निर्दिष्ट नाम से भेजा जा रहा है।

Back to Top