पनडुब्बी (एक्स-कुरसुरा) संग्रहालय

आईएनएस कुरसुरा – एक संक्षिप्त इतिहास

INS Kursura

कमांडर ए. ऑदित्तो के आदेश के तहत 18 दिसंबर 1969 को आईएनएस कुरसुरा रीगा, पूर्व सोवियत संघ में कमीशन किया गया था। पनडुब्बी ने 20 फरवरी 1970 को बालरिस्क से अपने मार्ग पर आगे बढ़ना शुरू किया। भारतीय नौसेना में कुरसुरा के अधिष्ठापन से इसके तीसरे आयाम की वृद्धि देखी गई। यह भारतीय नौसेना पनडुब्बी शाखा की नींव का पत्थर थी। अपनी सेवा के 31 गौरवशाली वर्षों के दौरान पनडुब्बी ने 73,500 समुद्री मील की दूरी तय करते हुए लगभग सभी प्रकार नौसेना संचालन में भाग लिया। आईएनएस कुरसुरा ने 1971 के भारत - पाक युद्ध में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस पनडुब्बी ने अपनी अग्रणी यात्राओं और दूसरे देशों में ध्वज दर्शन के मिशन के माध्यम से सद्भावना और सौहार्द का विस्तार किया था। अपने विशाल जीवन काल में, आईएनएस कुरसुरा ने 13 बार नियंत्रण बदले, इसके अंतिम कमांडिंग अधिकारी कमांडर के.एम. श्रीधरन रहे हैं। आईएनएस कुरसुरा को 27 फरवरी 2001 को डिकमीशन किया गया था।

पनडुब्बी संग्रहालय

पनडुब्बी संग्रहालय इसकी डिकमीशन के बाद कुरसुरा पनडुब्बी को आर.के. समुद्रतट विशाखापटनम में स्थित एक पनडुब्बी संग्रहालय में बदला जा रहा है। इस संग्रहालय का उद्घाटन आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री, श्री चंद्रबाबू नायडू द्वारा 09 अगस्त 2002 को किया गया और 24 अगस्त 2002 को इसे जनता के लिए खोला गया।