वर्तमान स्थिति

भारतीय नौसेना की गतिविधियां.भारतीय नौसेना ने उपकरण और मवयव के स्तर तक, युद्धपोत के निर्माण के संपूर्ण स्पेक्ट्रम में स्वदेशी सक्षमता और क्षमता विकसित करने पर कार्य शुरू कर दिया है। इस प्रकार पिछेले कुछ दशकों के दौरान, हमने जहाज/पनडुब्बी की डिजाइन, निर्माण सामग्री, मशीनरी, उपकरण तथा प्रणालियों के एकीकरण के संबंध में भारतीय उद्योग की सक्रिय सहभागिता से क्रेता की नौसेना से निर्माता की नौसेना में रूपांतरित कर दिया है।

नौसेना की प्रणालियों और प्लेटफॉर्म का स्वदेशी विकास अत्यंत विशिष्ट है जिसके लिए संबंधित क्षेत्रों की गबरी समझ आवस्यक है। अतः,स्वदेशी क्षमता का विकास को नौसेना में ऊर्द्धाधर विशिष्ट संगठनों में बहुत ही विवेकपूर्ण तथा विचारपूर्वक वितरित किया है जो सतही जहाजों की डिजायन, पनडुब्बी की डिजायन, हथियार प्रणाली का एकीकरण, हथियार इत्यादि के लिए आवश्यकताओं को पूरा करती है। नौसेना समुचित तकनीकों और उत्पादो को विकसित करने में डीआरडीओ की सक्षमताओं का भी लाभ उठा रही है ।

Back to Top