नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा, चेयरमैन सीओएससी और चीफ ऑफ़ नेवल स्टाफ 12-15 मार्च 2019 तक यूके का दौरा

नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा, चेयरमैन सीओएससी और चीफ ऑफ़ नेवल स्टाफ 12-15 मार्च 2019 तक यूके का दौरा

12 से 15 मार्च 2019 तक नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा, पीवीएसएम, एवीएसएम, एडीसी, चेयरमैन सीओएससी और चीफ ऑफ़ नेवल स्टाफ यूके में एक आधिकारिक दौरे पर हैं। भारतीय नौसेना का रॉयल नेवी (आरएन) के साथ पारंपरिक संबंध रहा है, जिसने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए अलग-अलग रक्षा मंचों की संस्थाएं बनने के बाद से एक लंबा सफर तय किया है। 1995 में इंडो-यूके रक्षा सलाहकार समूह और सैन्य उप समूह के निर्माण के साथ, सहयोग के दो स्तरीय संरचना का निर्माण रक्षा सहयोग के अलग-अलग क्षेत्रों की प्रगति के लिए किया गया था। सितंबर 2004 में, दोनों देशों ने एक रणनीतिक साझेदारी शुरू करने के लिए समझौता किया था, इस साझेदारी में रक्षा सहयोग पर प्रमुखता से ध्यान दिया गया। आधिकारिक तौर पर 'कार्यकारी संचालन समूह' कहलाने वाला 'सेवा-स्तरीय कर्मचारी वार्ता' मंच दो सशस्त्र बलों के बीच सहयोग बढ़ाने की प्राथमिक प्रक्रिया है।

भारतीय नौसेना और रॉयल नेवी हिन्द महासागर नौसेना संगोष्ठी में भागीदार हैं; समुद्री सहयोग को 2008 में भारतीय नौसेना द्वारा संकल्पित और संचालित करके बनाया गया। नवंबर 2018 में, कोच्चि में आईओएनएस की 10वीं वर्षगांठ समारोह में आरएन ने भाग लिया था। द्विपक्षीय नौसेना अभ्यास कोंकण दोनों नौसेनाओं के बीच एक महत्वपूर्ण परिचालानात्मक कड़ी है और इसका आयोजन हर साल भारत और यूके के तट पर बारी-बारी से किया जाता है। दोनों नौसेनाएं कई मुद्दों पर भी बातचीत करती रहती है, जैसे कि, प्रशिक्षण, सिद्धांत संबंधी अवधारणा और समुद्री क्षेत्र में जागरूकता।

नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा, चेयरमैन सीओएससी और चीफ ऑफ़ नेवल स्टाफ, भारतीय नौसेना के आगामी यूके दौरे में मौजूदा समुद्री सहयोग पहल को मजबूत करने के साथ-साथ नए रास्ते की तलाश की जाएगी। नौसेनाध्यक्ष के यूके दौरे का लक्ष्य उस दृष्टिकोण को आगे ले जाना भी है, जिसे नवंबर 2015 में हमारे माननीय प्रधानमंत्री के यूके दौरे के दौरान तय किया था।

तीन दिवसीय यात्रा के दौरान, नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा लंदन में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, यूके और पोर्ट्समाउथ में रॉयल नेवी के फर्स्ट सी लार्ड और चीफ ऑफ द नेवल स्टाफ के साथ विचार-विमर्श करेंगे। नौसेनाध्यक्ष सुनील लांबा लंदन में इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटेजिक स्टडीज और ग्लासगो में आरएन सबमरीन रेस्क्यू फैसिलिटी का दौरा भी करेंगे और एडिनबर्ग में रॉयल एडिनबर्ग मिलिट्री टैटू के आयोजकों के साथ बातचीत करेंगे।

Back to Top