नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

भारतीय नौसेना और ओमान की रॉयल नौसेना गोवा में 22 से 27 जनवरी 16 तक अरब सागर में द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास नसीम-अल-बहर आयोजित कर रही है। नसीम-अल-बहर 1993 में शुरू किए गए दोनों देशों के बीच लंबी अवधि वाले रणनीतिक संबंध का प्रतीक है, अभ्यास कई वर्षों से व्यापकता, परिचालनों की जटिलता और सहभागिता के स्तर के बढ़ने के साथ परिपक्व हुई है। मौजूदा अभ्यास इस तरह का दसवां अभ्यास होगा।

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

आरएनओवी कार्वेट अल-शामिख

इस अभ्यास का प्राथमिक लक्ष्य दोनों नौसेनाओं के बीच अंतरसंक्रियता को बढ़ाना और समुद्री सुरक्षा परिचालनों के लिए प्रक्रियाओं की सामान्य समझ को विकसित करना है। नसीम-अल-बहर के कार्यक्षेत्र में गोवा के बंदरगाह फेज के दौरान व्यापक स्तर पर व्यावसायिक बातचीत और समुद्री परिचालनों के विस्तार के लिए समुद्र में परिचालानात्मक गतिविधियों के अलग-अलग कैनवास शामिल हैं।

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

आरएनओवी फ़ास्ट अटैक क्राफ्ट अल-सीब 

अभ्यास के दौरान, भारतीय नौसेना आईएनएस त्रिकांड और आईएनएस त्रिशूल के साथ प्रस्तुत हो रही है। इसके अतिरिक्त, फ़ास्ट अटैक क्राफ्ट, मेरीटाइम पट्रोल एयरक्राफ्ट और आंतरिक हेलिकॉप्टर द्विपक्षीय अभ्यास में भाग लेने के लिए निर्धारित किए गए हैं। ओमानी नौसेना आरएनओवी अल-शामिख, एक कार्वेट और आरएनओवी अल-सीब, फ़ास्ट अटैक क्राफ्ट के साथ प्रस्तुत होगी। आरएनओ पोत 22 जनवरी 16 की सुबह को पहुंचे और 16 फरवरी की सुबह को विशाखापत्तनम के आईएफआर-16 में भाग भी लेंगे। यह ध्यान देने योग्य है कि ये आईएफआर-16 से पहले मित्र विदेशी देशों से भारत आने वाली सबसे पहली पोते हैं।
 

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

पूर्व नौसेना प्रमुख पुनीत के बहल, एफओजीए और कमांडिंग ऑफिसर पोत का दौरा करते हुए

अभ्यास दो फेज़, यानी गोवा में बंदरगाह फेज़ (22-24 जनवरी 16) और गोवा में समुद्र फेज़ (24-27 जनवरी 16) में पूरी की जाएगी। बंदरगाह फेज़ में अनेक तरह के पेशेवर वार्ता, सौजन्य कॉल, सामाजिक एवं खेल वार्ता और योजना कांफ्रेंस को शामिल किया जाएगा। समुद्र फेज़ के दौरान फ्लीट परिचालनों के अनेक पहलूओं की योजना बनाई गई है, इसमें फ्लाइंग ऑपरेशन के साथ-साथ नौसंचालन और मछुआरों क्रमिक विकास, सरफेस फायरिंग, सैन्य-बल संरक्षण और समुद्री डाकू विरोधी अभ्यास शामिल है। अभ्यास का लक्ष्य एक-दूसरे के अनुभवों से परस्पर लाभ प्राप्त करना और सर्वोत्तम कार्य प्रथाओं को साझा करना है। पिछले कुछ वर्षों में ऐसे अभ्यासों के परिणाम के रूप में प्राप्त अंतरसंक्रियता से यह साबित होता है कि ये दोनों के परिचालानात्मक रूप से लाभदायी रहे हैं।

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

पूर्व नौसेना प्रमुख पुनीत के बहल, एफओजीए और कमांडिंग ऑफिसर पोत का दौरा करते हुएs

अभ्यास दोनों नौसेनाओं के बीच समुद्री सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने में दूसरा माइलस्टोन होगा और लंबे समय से चले आ रहे दो देशों के बीच मित्रता के बंधन को प्रबल बनाने के लिए भी कार्य करेगा। हमारे बढ़ते हुए नौसेना सहयोग समुद्री स्थिरता को बढ़ाने के लिए दोनों राष्ट्रों की प्रतिबद्धता का ठोस प्रतीक है।

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

नसीम-अल-बहर 2016 - ओमान नौसेना के पोतों का दौरा

Back to Top