एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया

एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया

24 अगस्त 2018 को बचाव और राहत कार्यों के सफल समापन पर दक्षिणी नौसेना कमान ने ऑपरेशन मदद को समाप्त कर दिया है। यह ऐसा सबसे बड़ा एच ए डी आर ऑपरेशन था जिसे एस एन सी द्वारा पूरा किया गया, यह ऑपरेशन सोलह दिनों तक चला, इसमें कुल 16,843 लोगों को बचाया गया, जिसमें से 15,670 लोगों को नाव से और 1,173 लोगों को विमान से बचाया गया। एक दिन में तैनात किए गए जेमिनी बोट वाले 92 बचाव दलों के साथ प्रयास अधिकतम था। बिना किसी रुकावट के विमान दिन-रात हवाई मार्गों पर संचालन करने में सक्षम थे।

पश्चिमी और पूर्वी नौसेना कमान ने भी भारतीय वायु सेना के विमान के साथ-साथ नौसेना के पोतों द्वारा भेजे गए हेलीकॉप्टर, गोताखोरों, जेमिनी बोट और अन्य एच ए डी आर सामग्री के साथ मदद की।

विस्थापित व्यक्तियों के लिए दो जगहों अलुवा में नेवल आर्मामेंट डिपो और नेवल बेस में T2 हैंगर में बचाव शिविर लगाए गए। नौसेना पत्नी कल्याण संघ की महिलाओं ने भी राहत शिविरों में जरूरतमंदों को भोजन, कपड़े और अन्य जरूरी चीजें बाँटी और उन्हें घर जैसा महसूस कराया।

वायनाड और अलुवा में चिकित्सा शिविर लगाए गए, जहां तक सड़क से पहुँचना संभव नहीं था। भा नौ अ पो संजीवनी ने बचाए गए 10 से अधिक लोगों को अस्पताल की चिकित्सीय सुविधा प्रदान की, जिसमें दो डिलीवरी भी शामिल थी। कई टन भोजन, पानी और अन्य राहत सामग्री नावों और विमानों द्वारा बाँटी गई। एक सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गई, जिसमें 10,000 लोगों को भोजन उपलब्ध कराया गया, भोजन में तीन समय का खाना और दो बार चाय की व्यवस्था थी, यह रसोई 'मदद' की शुरुआत में स्थापित की गई थी और आज  ही बंद की गई है।

महत्वपूर्ण लोक सुविधाओं और बुनियादी ढांचे की आपातकालीन मरम्मत का कार्य अमृता अस्पताल, पजास्सी बांध और के डब्ल्यू ए जल पंपों में किया गया ताकि पानी की आपूर्ति और कुछ के एस ई बी ट्रांसफार्मर में बिजली की आपूर्ति को पुनः बहाल किया जा सके।

सी आई एल में बाढ़ के चलते व्यवसायिक परिचालनों के निलम्बन करने के बाद डी जी सी ए, ए ए आई के साथ मिलकर एस एन सी ने स्कूल फॉर नेवल एयरमेन (एस एफ एन ए) को शिफ्ट टर्मिनल में परिवर्तित करके उड़ानों हेतु भा नौ पो गरुड़ के उपयोग की सुविधा प्रदान की। व्यवसायिक उड़ान की शुरूआत 20 अगस्त 2018 को हुई और अभी भी जारी है।

ऑपरेशन 'मदद' के दौरान एस एन सी का नेतृत्व करने वाले दक्षिणी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, वाइस एडमिरल एके चावला, ए वी एस एम, एन एम, वी एस एम, ने बचाव दलों को संबोधित करते हुए कमान द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की। उन्होंने युवा अधिकारियों और नाविकों की उनकी विशेष प्रशंसा की जिन्होंने बचाव दल के मुख्य आधार का निर्माण किया और अपने कार्यों को व्यवसायी, आत्मविश्वास और निःस्वार्थ भाव से अपने स्वयं के व्यक्तिगत आराम पर विचार किए बिना पूरा किया। उन्होंने इस बात को भी स्वीकार किया कि उन्होंने दूसरे नौसेना कमान द्वारा समय पर सहायता और समर्थन भी मिला है। उन्होंने कहा कि इस ऑपरेशन ने इस परिमाण के अप्रत्याशित आपदा को नियंत्रित कर भारतीय नौसेना और एस एन सी की क्षमता को प्रदर्शित किया और उन्हें विश्वास था कि कमान की शक्ति आगे भी बढ़ती रहेगी और वे भविष्य में बड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए भी हमेशा तैयार रहेंगे।

  • एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया
  • एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया
  • एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया
  • एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया
  • एस एन सी ने 'ऑपरेशन मदद' को समाप्त किया
Back to Top