इंद्र नौसेना-20

इंद्र नौसेना-20

भारतीय और रुसी नौसेना के बीच एक द्विवार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास, इंद्र नौसेना अभ्यास का 11वां सत्र 04 से 05 सितम्बर 2020 तक बंगाल की खाड़ी में होना तय हुआ है। 2003 में आरंभ हुआ, पूर्व इंद्र नेवी अभ्यास दोनों नौसेनाओं के बीच दीर्घकालीन सामरिक संबंध का प्रतीक है। बंगाल की खाड़ी में हो रहे इस अभ्यास की अवधि के बीच, भारत के माननीय रक्षा मंत्री, श्री राजनाथ सिंह, रूस के रक्षा मंत्री जनरल सेर्गेई शोइगु के आमंत्रण पर 03 सितम्बर 2020 से द्विपक्षीय संबंध तथा आपसी हितों के मुद्दों पर विचार-विमर्श करने और द्वितीय विश्व युद्ध में विजय की 75वीं वर्षगाँठ के स्मरणोत्सव के लिए मॉस्को के दौरे पर हैं।

कार्यक्षेत्र, सामरिक गतिविधियों में जटिलता और भागीदारी के स्तर में वृद्धि सहित बीते वर्षों में यह अभ्यास परिपक्व हुआ है। इंद्र नौसेना-20 अभ्यास का मुख्य लक्ष्य बीते वर्षों में दोनों नौसेनाओं द्वारा बढ़ाई गई अन्तरसंक्रियता को और मजबूत बनाने के साथ-साथ बहुमुखी समुद्री सामरिक गतिविधियों के लिए तालमेल और कार्यविधिओं को बढ़ाना भी है। इस सत्र के प्रयोजन में समुद्री सामरिक गतिविधियों के पैमाने में विविध प्रकार की गतिविधियाँ शामिल हैं। कोविड-19 महामारी की वजह से लगाए गए प्रतिबंधों के कारण, इंद्र नौसेना-20 एक 'केवल समुद्र पर गैर-संपर्क/स्पर्श' तरीके से किया जाएगा।

दिशा-निर्देशित मिसाइल ध्वंसक रणविजय, स्वदेशीय युद्धपोत सह्याद्रि तथा फ्लीट टैंकर शक्ति सहित उनके अभिन्न हेलीकॉप्टरों द्वारा भारतीय नौसेना का प्रतिनिधितत्व किया जाएगा। वर्तमान में सह्याद्रि को श्रीलंका के समुद्रतट से परे एमटी न्यू डायमंड पर लगी आग बुझाने को सहायता प्रदान करने के लिए पुनर्नियोजित किया गया है।

ध्वंसक एडमिरल विनोग्राडोव, ध्वंसक एडमिरल ट्रीबूट्स तथा व्लादिवोस्टोक पर आधारित, पैसिफिक फ्लीट के फ्लीट टैंकर बोरिस बुटोमा द्वारा रूस नौसेना का प्रतिनिधितत्व किया जाएगा।

इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों नौसेनाओं के बीच अन्तरसंक्रियता को बढ़ाना, तालमेल में सुधार लाना तथा बेहतरीन कार्यप्रणाली ग्रहण करना है, जिसमें धरातल एवं विमानभेदी अभ्यास, गोलाबारी अभ्यास, हेलीकाप्टर सामरिक गतिविधि, नाविकविद्या विकास आदि शामिल होंगे। इस अभ्यास का अंतिम सत्र दिसंबर 2018 में विशाखापत्तनम के निकट संचालित हुआ था।

इंद्र नौसेना-20 अभ्यास दोनों नौसेनाओं के बीच परस्पर विश्वास एवं सहकारिता को और अधिक बढ़ाने में सहयोग सहित दोनों देशों के बीच मित्रता के दीर्घकालिक संबंध को मजबूत बनाएगा।

  • इंद्र नौसेना-20
  • इंद्र नौसेना-20
  • इंद्र नौसेना-20
  • इंद्र नौसेना-20
  • इंद्र नौसेना-20
Back to Top